Have You Heard..!!

Home

हजारो ऐसे रिस्तो को, निभाना छोड़ दी मैंने.

हज़ारों दर्द है दिल में, मगर सब मुस्कुराते हैं नहीं है प्यार फिर भी क्यों, मोहब्बत सब जताते हैं. नहीं चाहत है मिलने की, गले फिर भी लगाते हैं. दिखाकर दोस्ती का रंग , रंजिस सब छुपाते हैं. जहाँ रिस्ता नहीं होता, वहां रिस्ता बनाते हैं. जनम का है जहाँ नाता, वो नाता भूल जाते हैं. असल में और कुछ ... Read More »

मै तुझमे खुदा देखूं, तुम मुझमे खुद देखो.

गर प्यार नहीं तो क्या, नफ़रत से ही तुम देखो, जैसी भी तेरी मर्जी, पर एक नजर देखो. चेहरे की हंसी में तो, धोखा ही धोखा है, हसते हुए चेहरे में, रोता हुआ दिल देखो. नज़रों में कशिश हो तो, फिर उसका असर होगा, बस सर्त यही है तुम, जरा तीरे नजर देखो. हम जैसा दीवाना , ढूढे से न ... Read More »

उसे पाना कठिन नहीं है, कठिन तो खुद को खोना है.

उसे पाने की तमाम कोशिशे बेकार गयी, खुद को मिटाता गया और दूरिया मिटती गयी. परमात्मा को पाने के उपाय ढूढ़ते है लेकिन राह बड़ी कठिन है,जो पहले से ही प्राप्त है उसे पाने का उपाय क्या ढूढना है, यह तो बड़ी नासमझी सी बात है, यह तो बेकार का समय बर्बाद करने जैसा है .वास्तव में परमात्मा को पाने ... Read More »

कुछ वक्त तेरे साथ

कुछ वक्त तेरे साथ, गुजर जाये तो अच्छा, माहोल ग़मे दिल का, बदल जाये तो अच्छा. जबसे तुम्हे देखा है,यही सोंचता हूँ मै, तुम जैसा जिंदगी में, कोई आये तो अच्छा. इक बर्फ की चट्टान सी, सीने में जमीं है, तेरे सांसो की गर्मी से,पिघल जाए तो अच्छा. वैसे तो मुकद्दर से, शिकायत नहीं मगर, तकदीर जरा और संवर जाए ... Read More »

परमात्मा तो पास ही है हम ही दूर हो गए हैं.

कैसा आस्चर्य है हम उसी को ढूढ़ रहे है जो हमारे सब से करीब है , हम उसी को प्राप्त करने में असमर्थ है जो हमें पहले से ही प्राप्त है.हम उसी के नहीं हो सके जो हमेसा से हमारा है. वह करीब है, हम दूर है. वह तो सदैव उपलब्ध है हम ही उपलब्ध नहीं है. हमेसा ब्यस्त रहते ... Read More »

क्यों उदास हो जाऊं मैं.

माना की जंदगी में बहोत दर्द है मगर, खुशियां भी कम नहीं है, क्यों उदास हो जाऊ मैं. तुम मिलोगे या नहीं, ये तो पता नहीं है मुझे, उम्र बाकी है अभी , क्यों निरास हो जाऊ मैं. उठा हु जब भी लड़खड़ाके, जमे है पांव और भी मेरे, तूफ़ान देखकर, क्यों भला घबराऊं मैं. तुम तपाते रहो , ख़ाक ... Read More »

मेरा मन

हमारे जीवन में मन की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है. मन एक ऐसा माध्यम है जो हमें विषयो से जोड़ता है परन्तु विषयो का चुनाव हम स्वयं करते है. मन तो सिर्फ बीच की कड़ी होता है. जब हम मन के माध्यम से किसी विषय से जुड़ते है तो उस विसय के गुंड -दोस के अनुसार हमारे भीतर विचार आने ... Read More »

पिया का साथ.

तेरा मालिक, तेरा परमात्मा,तेरा पिया हमेशा तेरे साथ है लेकिन तू ही उससे दूर है, तू ही इधर – उधर भटक रहा है. बस एकबार तू उसका साथ पकड़ ले तेरे सारे गम दूर हो जाएंगे. तू छोड़ दे सारी बात, पकड़ ले सिर्फ पिया का हाथ. तेरे गम भाग जाएंगे, तेरे गम भाग जाएंगे. सारे जग से प्रीत लगाई, ... Read More »

कौन हु मै

कौन हु मै, मुझे अहसास करादे मौला. आईना मुझको, एकबार दिखादे मौला. कौन से सहर से आया हु , मुझे जाना है कहा, मेरी मंजिल का पता, मुझको बतादे मौला. कहते है इश्क जो सच्चा है, तो मिलता है खुदा. इस कदर मुझको भी, दीवाना बनादे मौला. अँधेरी रात है, खोई खोई सी राहें है. अपनी रहमत का ज़रा, सम्मा ... Read More »

प्रभूजी मेरा ख्याल करो

मै अज्ञानी अनजान , प्रभूजी मेरा ख्याल करो. तेरा बंदा है नादान , प्रभूजी मेरा ख्याल करो. माया का सागर है गहरा , छोटी सी नैया है हमरा. कैसे होगा हमारा बेडापार , प्रभूजी मेरा ख्याल करो. तुमसे मिलना सबसे प्यारा, पर घरके दुसमन से हारा. कैसे होगा तुम्हारा दीदार , प्रभूजी मेरा ख्याल करो . सीधी सीधी राह तुम्हारी ... Read More »